Breaking News

मुंबई हवाई अड्डा: जानिए क्या मुंबई हवाई अड्डा अडानी समूह में जाएगा? जीवीके के प्रयास भी हैं जारी

लाइव हिंदी ख़बर (व्यापार):-मुंबई एयरपोर्ट जो नुकसान में चल रहा है और साथ ही वित्तीय कदाचार की जांच का सामना कर रहा है, मुंबई एयरपोर्ट अडानी समूह में जाने की संभावना नजर आ रही है। अडानी ग्रुप और जीवीके ने एयरपोर्ट और बाकी हिस्सों में 50.50 फीसदी हिस्सेदारी खरीदना शुरू कर दिया है।

मुंबई का छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल) द्वारा संचालित है। मियाल जीवीके होल्डिंग की सहायक कंपनी है। कंपनी में जीवीके ग्रुप की 50.50 प्रतिशत हिस्सेदारी है। 13.50 प्रतिशत हिस्सेदारी दक्षिण अफ्रीकी कंपनी के पास है। 10 प्रतिशत हिस्सेदारी अबू धाबी पेंशन प्राधिकरण के पास है। शेष 26 प्रतिशत हिस्सेदारी केंद्र सरकार के भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के पास है।

अडानी ग्रुप पहले चरण में जीवीके का 50.50 प्रतिशत और एक दक्षिण अफ्रीकी कंपनी और अगले चरण में अबू धाबी में 10 प्रतिशत खरीदने की तैयारी कर रहा है। उन्होंने पिछले साल भी ऐसा प्रयास किया था।

इससे पहले बिडवेस्ट ने मियावाल में जीवीके और दक्षिण अफ्रीकी हवाई अड्डों के साथ एक साझेदारी की थी। लेकिन पिछले साल अक्टूबर में बिडवेस्ट 10 फीसदी के साथ बाहर आया था। उस समय अडानी समूह ने बिडवेस्ट में 1248 करोड़ रुपये में हिस्सेदारी खरीदने और कुल 10000 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बनाई थी। लेकिन उस समय जीवीके ने अबू धाबी से अडानी को 7648 करोड़ रुपये का निवेश लाकर रोक दिया था। अब हालांकि केवल मियाल कंपनी मुश्किल में है।

इसलिए अडानी समूह ने इस मुद्दे पर एक आक्रामक चर्चा शुरू की है। सूत्रों ने कहा है कि अडानी समूह का सौदा अगले कुछ हफ्तों में पूरा हो सकता है। लेनदेन को अबू धाबी पेंशन फंड और नेशनल इंवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड द्वारा भी मंजूरी दी गई है। अगर यह सौदा पूरा हो जाता है, तो मुंबई हवाई अड्डे की 76 प्रतिशत हिस्सेदारी अडानी समूह की हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *