जिस खिलाड़ी को नहीं समझा जाता था प्लेइंग-11 के योग्य, उसी ने बचाई टीम इंडिया की लाज

इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड की मेजबानी में खेले जा रहे आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड ने भारत को 18 रन से हरा दिया है I इसी के साथ भारतीय टीम विश्व कप 2019 से भी बाहर हो गई है I

जिस खिलाड़ी को नहीं समझा जाता था प्लेइंग-11 के योग्य, उसी ने बचाई टीम इंडिया की लाज

इस मुकाबले में न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवर में 239 रन का स्कोर खड़ा किया I लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 49.3 ओवर में 221 रन ही बना सकी और 18 रन से यह मुकाबला हार गई I

इस मैच में भारत के शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों ने बेहद ख़राब प्रदर्शन किया, जिससे टीम जल्दी दबाव में आ गई I भारत इस मुकाबले को और भी बड़े अंतर से हार सकता था लेकिन एक ऐसे खिलाड़ी ने टीम इंडिया की लाज बचाई, जिसे कुछ समय पहले तक प्लेइंग इलेवन के योग्य भी नहीं समझा जाता था I

दोस्तों हम बात करे रहे है भारत के स्टार ऑलराउंडर रविन्द्र जडेजा की, जिन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ 59 गेंदों में 77 रन की विस्फोटक पारी खेली I दरअसल एक समय टीम इंडिया 92 रन पर 6 विकेट गंवाकर बेहद मुश्किल स्थिति में थी, लेकिन जडेजा ने अपनी अर्धशतकीय पारी के दम पर भारत को एक विशाल अंतर की हार से बचा लिया I हालाँकि वह अपनी टीम को विश्व कप के सेमीफाइनल में नहीं पहुंचा सके, लेकिन इस मैच में जिसे तरह से उन्होंने प्रदर्शन किया वह तारीफ के योग्य था I उन्होंने बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तीनों क्षेत्रों में शानदार प्रदर्शन किया I

दोस्तों जानकारी के लिए बता दें कि जडेजा को विश्व कप के शुरुआत 8 मैचों की प्लेइंग इलेवन में मौका ही नहीं दिया गया था I लेकिन श्रीलंका के खिलाफ मुकाबले में जडेजा को अंतिम एकादश में मौका दिया और उन्होंने अपने प्रदर्शन से खुद को साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी I

livehindikhabar.com