हाईवे पर ही पढ़ने लगे रमजान की नमाज, धूप में चार घंटे तक तड़पते रहे मरीज और छोटे बच्चे

उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर से संवेदनहीनता का हैरान करने वाला केस सामने आया है। अमर उजाला न्यूज वेबसाइट के मुताबिक यहां प्रशासन से गुस्सा होकर लोगों ने बदला लेने का अजीब तरीका निकाला। पहले वो हाईवे पर बवाल कर रहे थे, इसके बाद हाईवे पर ही टेंट लगाकर रमजान की नमाज पढ़ने लगे। पुलिस ने हटाने की कोशिश की तो पथराव करने लगे। इस वजह से लंबा जाम लग गया और चार घंटे तक एंबुलेंस से लेकर गाड़ियां फंसी रहीं।

कानपुर-जाजमऊ हाईवे का मामला

अमर उजाला न्यूज वेबसाइट के मुताबिक ये मामला कानपुर जाजमऊ नई चुंगी के पास गुरुवार का है। दरअसल जाजमऊ की 225 टेनरियों की बिजली काटने के लिए केस्को की टीम पुलिस के साथ आई थी। इसी बात का वो लोग विरोध कर रहे थे। पुलिस का विरोध करने के लिए टेनरी संचालकों ने सैकड़ों की संख्या में मजदूरों के साथ दिल्ली लखनऊ-हाईवे को जाम कर दिया।

मूक खड़ी रही पुलिस, तड़पते रहे मरीज

हंगामा कर रहे मजदूरों की जौहर की नमाज का वक्त हुआ तो वो हाईवे पर ही टेंट लगाकर नमाज पढ़ने लग गए। पुलिस ने हटाना चाहा तो पथराव करने लगे। इसके बाद पुलिस मूकदर्शक बनी रही और कानपुर-लखनऊ हाईवे जाम हो गया। जाम में छोटे स्कूली बच्चों से लेकर मरीज तक फंस गए। हालात को देखते हुए अधिकतर बसों से यात्री उतर कर पैदल चल दिए। चार घंटे बाद जाकर जाम खुला।