मसूद अजहर पर पत्रकार रवीश कुमार ने तोड़ी चुप्पी, उजागर कर दी मोदी सरकार की बड़ी नाकामी


गूगल तस्वीर
पाकिस्तान में आतंकी मसूद अजहर अब खुले में घूम नहीं सकेगा। भारत सरकार के प्रयासों के बाद, इसे संयुक्त राष्ट्र में प्रतिबंधित कर दिया गया है और इसे वैश्विक आतंकवादियों की सूची में डाल दिया गया है। पाकिस्तान ने यह भी घोषित किया कि संयुक्त राष्ट्र के फैसले के बाद अब मसूद के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और नियमों के तहत प्रतिबंध लगाए जाएंगे। हालांकि, इस मामले में पहली बार पत्रकार रवीश कुमार ने चुप्पी तोड़ी। उन्होंने मोदी सरकार की बड़ी विफलता को उजागर किया है।

गूगल तस्वीर

पांचवीं बार भारत के लिए सफलता

भारत ने बहुत जल्द मसूद अजहर को गिरफ्तार कर लिया था। लेकिन प्लेन हाईजैक कांड के बाद पाकिस्तान भागने के बाद वह भारत के चंगुल से भाग निकला। इसके बाद उन्होंने जैश-ए-मोहम्मद संगठन बनाया जिसके जरिए वह भारत पर आतंकी हमले करता था। भारत ने 2009, 2016, 2017 और मार्च 2019 में उन आतंकवादियों के खिलाफ प्रतिबंध लगाने की कोशिश की थी जो सिरदर्द बन गए थे, लेकिन असफल रहे। हालांकि, 1 मई को पांचवें प्रयास में उन्हें वैश्विक आतंकवादी घोषित किया गया।

गूगल तस्वीर

रवीश कुमार के एक्सपोजर की बड़ी विफलता

पत्रकार रवीश कुमार ने अपने ब्लॉग में एक नियम खोला है जिससे मोदी सरकार का जश्न फीका पड़ सकता है। रवि ने बताया कि भारत ने उसे पुलवामा हमलों और मुंबई हमलों के लिए दोषी के रूप में प्रतिबंधित करने की मांग की थी। हालांकि, मोदी सरकार की ये दोनों मांगें प्रस्ताव से वापस ले ली गईं। रवि ने ब्लॉग में बताया है कि यह ऑफर आईसी 814 विमान अशिक्षा को दर्शाता है। यानी मसूद पर कार्रवाई पुलवामा हमले या मुंबई हमले के कारण नहीं हुई, जिसकी मोदी सरकार मांग कर रही थी। इसी को आधार बनाकर पाकिस्तान सरकार इसे अपनी कूटनीतिक जीत बता रही है।